सरकारी विभाग में कार कैसे लगायें ? | Sarkari Vibhag me Car kaise lagaye 2024 में ?

Last Updated on 13/01/2024 by S.R. Verma

यदि आपके पास अच्छी और नई कार है और आप उसे किसी सरकारी विभाग में किराये में लगाना चाहते हैं तो हम आपको बताएँगे कि Sarkari Vibhag me Car Kaise lagaye ? आप Car को किसी सरकारी विभाग में किराये पर लगा कर अच्छी कमाई कर सकते हैं और कार के लोन और बीमा के क़िस्त भी अदा कर सकते हैं| तो आपको यह जान लेना बहुत जरुरी है कि सरकारी विभाग में कार किराये पर लगाने की प्रक्रिया (process) क्या है?

Sarkari Vibhag me Car kaise lagaye यह जानने के लिए सबसे पहले आपको यह देखना है कि आप कहाँ यानि किस शहर में सरकारी विभाग में कार किराए पर लगाना चाहते हैं और फिर यह पता करना है कि क्या वहां पर सरकारी विभाग के ऑफिस या कार्यालय हैं या नहीं| यदि है तो फिर बहुत अच्छा हैं यदि नहीं है तो हम आगे बताएँगे कि आप सरकारी विभाग के आलावा और कहाँ कहाँ गाड़ी किराये पर लगा सकते हैं? जिससे आप अच्छी कमाई कर सकें|

सबसे पहले हम देखेंगे कि भारत सरकार (केंद्र सरकार) के कार्यालयों (Central Government Offices) में कार किराये पर कैसे लगाये | फिर हम जानेंगे कि राज्य सरकार के कार्यालयों (offices) में गाड़ी किराये पर कैसे लगायें| और फिर देख्नेगे कि सरकारी विभागों के आलावा और कहाँ कहाँ गाड़ी को रेंट पर लगाया जा सकता है जिससे कि अच्छी खासी इनकम generate की जा सके|

Table of Contents

केंद्र सरकार या भारत सरकार के विभागों / कार्यालयों में कार या गाड़ी किराये पर कैसे लगायें?

भारत सरकार के सरकारी विभगों में गाड़ी किराये पर लगवाने के लिए अब टेंडर (Tender) डाला  जाता है|  टेंडर के माध्यम से ही अब केंद्र सरकार के सरकारी विभगो या कार्यालयों में गाड़ियाँ किराये पर लगवाई जाती है | टेंडर में भाग लेने के लिए कोई भी आवेदन कर सकता है और अपनी बोली लगा सकता है | जिसकी बोली सबसे कम होगी उसे ही गाड़ी लगाने का टेंडर दिया जायेगा  या tender allot किया जायेगा|

सरकारी विभाग में कार कैसे लगायें यह जानने से पहले यह जानना भी जरुरी है कि भारत सरकार के कार्यालयों में गाड़ी का टेंडर कब डाला जाता है और किस पोर्टल पर डाला जाता है? गाड़ी का रंग कैसा होना चाहिए? गाड़ी कितने दिन पुरानी हो सकती है|

यह भी जानें: भारत सरकार के कार्यालयों में इस साल कब-कब छुट्टी है?

Sarkari vibhag me car kaise lagaye

भारत सरकार के सरकारी विभागों में गाड़ी के लिए टेंडर कब डाले जाते हैं?

Sarkari Vibhag me kar kaise lagaye यह जानने के लिए आपको यह भी जानना बहुत जरुरी है कि सरकारी विभाग में किराये पर गाड़ी लगाने के लिए टेंडर कब डाले जाते हैं|

भारत सरकार के सरकारी विभागों में सामान्यतः हर वर्ष फरवरी और मार्च के महीने मे टेंडर डाले जाते हैं |और जिसकी पूरी प्रक्रिया सामान्यतः 31 मार्च से पहले ही पूर्ण कर ली जाती है| यदि आप भी सरकारी विभाग में गाड़ी लगाना चाहते हैं तो फरवरी और मार्च के महीने में आपको मेरे द्वारा नीचे बताये गए पोर्टल में जरुर चेक करते रहना चाहिए कि किस विभाग का टेंडर आया है| ताकि आपसे कोई भी टेंडर छूटे नहीं और निर्धारित तिथि से पहले ही अपना टेंडर  सभी डाक्यूमेंट्स के साथ ऑनलाइन जमा कर दें| अंतिम तिथि का इंतजार बिलकुल भी न करें|

सरकारी विभागों में कौन-कौन सी गाड़ियों (Cars) के लिए टेंडर (Tender) डाले जाते हैं?

यह एक अहम् सवाल है कि सरकारी विभागों में कौन-कौन सी गाड़ियों की जरुरत होती है| क्योंकि टेंडर भी उन्हीं गाड़ियों के डाले जाते हैं| लगभग सभी सरकारी विभागों में नीचे बतायीं गयी गाड़ियों की जरुरत होती है | यदि आपके पास इस प्रकार की गाड़ी है तो आप भी टेंडर के लिए आवेदन कर सकते हैं|

  • Swift Dzire
  •  Bolero
  • Ertiga
  • Innova Crysta
  • Scorpio

सबसे ज्यादा मांग (डिमांड) सफ़ेद रंग (White Color) की Swift Dzire की होती है| बड़े अधिकारीयों के लिए Innova Crysta पहली पसंद होती है| जिन अधिकारीयों को अपने साथ अधिक स्टाफ को लेकर चलना होता है वो Bolero को वरीयता देते हैं| या जिन विभागों में गाड़ियों में कुछ हल्का-फुल्का सामान लेकर चलना होता है वहां पर bolero (बोलेरो) को ही पसंद किया जाता है| आपको अपने आस-पास के सरकारी विभागों के बारे में पता करना पड़ेगा कि वहां पर किस प्रकार के वाहनों की जरुरत होती है| उसी के अनुरूप ही गाड़ी खरीदें, यदि न खरीदी हो तो|

सरकारी विभाग में गाड़ी का टेंडर कुछ इस तरह से होता है जैसा कि नीचे फोटो में दिखाया गया है|

sarkari vibhag me car kaise lagaye

Sarkari Vibhag में कार लगाने के लिए कार का रंग कैसा होना चाहिए?

सरकारी विभागों में सफ़ेद रंग की कार लगायी जाती है | अक्सर आपने देखा होगा कि सभी अधिकारियों की गाड़ियाँ White Color की की ही होती है| सफ़ेद रंग की कार में आपको “भारत सरकार” या उत्तर प्रदेश सरकार या महाराष्ट्र सरकार लिखा हुआ मिलेगा| वो सभी टेंडर की गयी गाड़ियाँ होती हैं|

सरकारी विभाग में गाड़ी (CAR) लगाने के लिए गाड़ी कितने दिन की पुरानी (old) हो सकती है?

सरकारी विभागों में जो गाड़ियाँ लगायी जाती है वो या तो नई (new) होती हैं या अधिकतम 3 (तीन) साल पुरानी हो सकती हैं| नई गाड़ियों को वरीयता भी दी जा सकती है|

सरकारी विभाग में लगने वाली गाड़ी एक महीने में कितने दिन चलती है?

सरकारी विभाग में गाड़ी एक महीने में कितने दिन के लिए हायर की जाती है यह इस बात पर निर्भर करेगा कि गाड़ी केंद्र सरकार के कार्यालय में लगी है या राज्य सरकार के कार्यालय में लगी है | यदि गाड़ी केंद्र सरकार के कार्यालय में लगेगी तो गाड़ी एक महीने में अधिकतम 25 दिन तक चलेगी वहीँ यदि गाड़ी राज्य सरकार के कार्यालय में लगेगी तो एक महीने में अधिकतम 30 दिन तक चलायी जा सकती है|

सामान्यतः सभी कार्यालयों में गाड़ियाँ 25 दिन तक ही चलती है या और भी कम दिन | जिन विभागों में छापा मारने वाले काम होते हैं जैसे आयकर, ED (प्रवर्तन निदेशालय), CGST, SGST, CBI आदि, उनमे  गाड़ियाँ महीने में 30 या 31 दिन भी चल सकती हैं |

क्या प्राइवेट नंबर की गाड़ी (Car) सरकारी विभाग में लगाई जा सकती हैं?

नहीं, सरकारी विभाग में जो भी गाड़ियाँ लगायी जाती है वह कमर्शियल (Commercial) रजिस्ट्रेशन नंबर वाली गाड़ियाँ होती हैं | साथ ही उस गाड़ी का insurance, PUC और सभी जरुरी दस्तावेज होने चाहिए|

भारत सरकार के सरकारी विभाग में गाड़ी के लिए टेंडर किस पोर्टल पर डाला जाता है?

भारत सरकार के कार्यालयों में गाड़ी का टेंडर दो जगह डाले जाते हैं-

उपरोक्त में से किसी एक जगह पर भारत सरकार के गाड़ी या किसी और चीज के टेंडर जैसे House Keeping, Sweeping आदि के टेंडर डाले जाते हैं| भारत सरकार के अंतर्गत आने वाले लगभग सभी विभागों में GeM से ही Tender डालना अनिवार्य कर दिया गया है| तो यदि आप टेंडर डालना चाहते हैं तो आपको GeM पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करना अनिवार्य है|

GeM पोर्टल भारत सरकार का ऐसा पोर्टल है जिसके द्वारा भारत सरकार के अधीन आने वाले सभी मंत्रालय व विभाग अपने कार्यालय में उपयोग की सभी चीजें खरीदते हैं

CPP Portal का फुल फॉर्म है Central Public Procurement Portal तथा GeM का फुल फॉर्म है Government e-Marketplace  आपके शहर में उपस्थित भारत सरकार के सरकारी विभाग का टेंडर किस पोर्टल में डाला जाता है यह जानने के लिए आप उस कार्यालय के एडमिनिस्ट्रेशन ब्रांच में जा कर पता कर सकते हैं| या फिर आप अपना रजिस्ट्रेशन CPP पोर्टल और GeM पोर्टल दोनों में कर ली जिए और वाच करते रहिये कि कब कहाँ का टेंडर डाला जा रहा है|

अब भारत सरकार के लगभग सभी विभागों / कार्यालयों  में  टेंडर GeM Portal पर डाला जाता है | तो सबसे पहले आप लोगो को Gem पोर्टल में रजिस्ट्रेशन कर लेना चाहिए As a Seller |

उम्मीद है अब तक आप काफी कुछ समझ चुके होंगे कि Sarkari vibhag me car kaise lagaye या कार कैसे लगाई जाती है|

GeM Portal पर रजिस्ट्रेशन कैसे करें?

GeM पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कैसे करें, इसके लिए आपको GeM Portal की वेबसाइट में जाना होगा और वहां पर Signup में जाकर Sellers के रूप में रजिस्ट्रेशन करना होगा| यहाँ पर जो भी जानकारी मांगी जाये भरते जाइये आपका रजिस्ट्रेशन हो जायेगा |

रजिस्ट्रेशन के बारे में अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए गए विडियो को भी देख सकते हैं|

Video credit goes to https://www.youtube.com/@VijaySolutions Youtube channel

‘Sarkari vibhag me car kaise lagaye’ यह जानने से पहले टेंडर डालने के लिए क्या शर्तें होती है यह जानना बहुत जरुरी है|

सरकारी विभाग में गाड़ी लगाने के लिए tender डालने की शर्तें / Required Documents

  1. आपके पास आधार कार्ड होना चाहिए
  2. आपके पास PAN Card होना चाहिए
  3. आपके पास GST का रजिस्ट्रेशन होना चाहिए यदि नही है तो उसका भी उपाय नीचे बताया गया है
  4. आपकी गाड़ी या कार का रजिस्ट्रेशन होना चाहिए
  5. आपके पास गाड़ी का कमर्शियल रजिस्ट्रेशन है तो बहुत अच्छा होगा
  6. आपकी गाड़ी सफ़ेद रंग की होनी चाहिए क्योंकि सभी विभागों में सफ़ेद रंग की गाड़ी ही मांगी जाती है |
  7. आपके पास गाड़ी का PUC होना चाहिए|
  8. आपकी यदि नई या एक या दो वर्ष पुरानी है अच्छा रहेगा|
  9. यदि आपकी फर्म या कंपनी को MSME का दर्जा प्राप्त है तो यह बहुत अच्छा होगा|

सरकारी विभाग में गाड़ी के लिए टेंडर कब डाले/ मांगे जाते हैं?

  • जनवरी
  • फरवरी
  • मार्च में

सरकारी विभागों में गाड़ी के लिए टेंडर हर साल जनवरी से मार्च तक डाले जाते हैं| क्योंकि 31  मार्च को वित्तीय वर्ष ख़त्म हो जाता है और टेंडर ज्यादातर एक साल के लिए ही किये जाते हैं| और जब एक वर्ष की अवधि ख़त्म होने वाली होती है तो फिर से अगले एक साल के लिए टेंडर किया जाता है| और यह प्रक्रिया 31 मार्च से पहले ही खत्म कर ली जाती है जिससे अगले वित्तीय वर्ष की एक तारीख से अधिकारीयों के लिए गाड़ी उपलब्ध हो सके |

गाड़ी के लिए टेंडर डालने की प्रक्रिया ऑनलाइन होती है या ऑफलाइन?

गाड़ी के लिए टेंडर डालने की प्रक्रिया (process) पूरी तरह से ऑनलाइन (online) होती है | आपको किसी भी वजह से विभाग के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे | सब पूरी प्रकिया ऑनलाइन ही संपन्न हो जाएगी और ऑनलाइन ही आपको रिजल्ट भी दिख जायेगा कि टेंडर आपको मिला की नहीं| यदि आपको टेंडर मिलता है तो आपको पत्र द्वारा सूचित किया जायेगा|

टेंडर खुलने की क्या प्रक्रिया / चरण है ? Tender khulne ki process

यदि आपने सरकारी विभाग में गाड़ी/ कार लगाने हेतु टेंडर डाला है तो आपको यह पता होना चाहिए कि टेंडर खुलने की क्या प्रक्रिया है? टेंडर खुलने के दो चरण है|

  1. Technical Bid
  2. Financial Bid

टेंडर खुलने की प्रक्रिया में सबसे पहले टेक्निकल बिड खुलती है | इसके द्वारा यह निर्धारित किया जाता है कि किसने-किसने शर्तों के अनुसार सभी दस्तावेज ऑनलाइन अपलोड किये हैं | यदि जो-जो फर्म टेक्निकल बिड में qualify करती है तो उनकी फाइनेंसियल बिड खोली जाएगी | और उनमे से जिसकी बोली सबसे कम होगी उसे टेंडर दिया जायेगा |

यदि सबसे कम वाली बोली कई लोगो की एक ही है तो ऐसे स्थिति में GeM Portal अपने आपसे किसी एक को चुन लेगा और उसे ही टेंडर allot कर दिया जायेगा|

तो यह है पूरी प्रक्रिया कि Sarkari Vibhag me Car kaise lagaye|

CPP Poral के माध्यम से Sarkari Vibhag me Car kaise lagaye?

CPP पोर्टल से टेंडर करने के लिए आपको CPP पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करना होगा| इस पोर्टल से टेंडर डालने के लिए भी आपको उन सभी डाक्यूमेंट्स की जरुरत होगी जिनकी जरुरत GeM पोर्टल से टेंडर डालने में पड़ी थी| बस अंतर सिर्फ पोर्टल का है|

यहाँ भी टेंडर दो चरणों में खुलता है पहले टेक्निकल बिड खुलेगी और फिर फाइनेंसियल बिड खुलेगी| जो टेक्निकल बिड में qualify करेंगे उनकी फाइनेंसियल बिड खोली जाएगी| और सबसे कम बोली वाले को चुना जायेगा|

CPP Portal के माध्यम से Sarkari Vibhag me Car kaise lagaye, कैसे टेंडर को cpp पोर्टल में भरें यह जानने के लिए नीचे दिए गए वीडियो को ध्यान से देखें|

Video Credit goes to https://www.youtube.com/@YMWSolutions  youtube Channel

टेंडर में कितने रुपये तक की बोली लगायी जाती है ?

गाड़ी या कार लगवाने के लिए जिस भी विभाग ने टेंडर निकाला होगा वह विभाग आपको इस बारे में अपनी टेंडर नोटिस के माध्यम से बताएगा कि उसका बजट कितना है और एक माह में अधिकतम कितने किलोमीटर गाड़ी को चलाया जा सकता है| उसी के अनुरूप आपको बोली लगानी होगी | बोली ऐसी लगाये जिससे आपको आपका खर्च भी निकल आये और बचत भी हो जाये | क्योंकि गाड़ी का तेल का खर्च आपको ही वहन करना है maintenance भी आपको ही देखना है | गाड़ी का बीमा भी आपको ही भरना है|

राज्य सरकार के सरकारी विभाग में गाड़ी कैसे लगायें?

राज्य सरकार के किसी भी सरकारी विभाग में गाड़ी लगाने के लिए, अभी तक जो जानकारी हमें मिली है उसके अनुसार राज्य सरकार के विभिन्न विभागों में GeM Portal और CPP Portal के माध्यम से ही टेंडर किये जाते हैं| तो आपको इन दोनों ही पोर्टल में रजिस्ट्रेशन करना अनिवार्य है|

और यदि आपको ऐसा लगता है कि मेरे शहर  की सरकारी ऑफिस का टेंडर उपरोक्त दोनों पोर्टल पर नहीं दिख रहा है तो आपको अपने शहर के सरकारी कार्यालय में जाना होगा और वहां पर पता करना होगा कि कोई गाड़ी का टेंडर डाला गया है क्या | यदि डाला गया है तो किस पोर्टल पर डाला गया है| क्योंकि राज्य सरकारों के अपने e-procurement वेबसाइट हो सकती हैं जिनके माध्यम से वे अपना ऑनलाइन टेंडर या ऑनलाइन खरीददारी का काम करवाती हैं| इस लिए किस पोर्टल पर टेंडर डाला गया है यह जानना बहुत जरुरी हैं| जिस भी पोर्टल पर टेंडर डाला गया है, उस पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन कर लें|

टेंडर डालने की प्रक्रिया सरकारी विभागों में सामान्यतः प्रशासनिक शाखा (Administrative Branch) के द्वारा ही देखा जाता है| इसलिए जब भी सरकारी विभाग में जाये तो प्रशासनिक शाखा में जाएँ | वहां पर तैनात सभी अधिकारी कर्मचारी इस विषय में आपको गाइड कर देंगे| जब जाएँ तो अपने सवालों और डाउट की एक सूचि तैयार कर ले कि आपको क्या क्या जानकारी लेनी है उनसे| नहीं तो आप वहां पर जाने के बाद जल्दबाजी में बहुत सरे सवालों/ doubt रह जाते है| यदि टेंडर डील करने वाले अधिकारी का mobile no मिल जाये तो जरुर लिये आयें | छोटे -छोटे डाउट क्लियर करने में काफी मदद करते हैं|

टेंडर पता करने के तरीके

  • Gem Portal में रजिस्ट्रेशन करके देखते रहिये कहाँ – कहाँ किस किस चीज के टेंडर डाले जा रहे हैं
  • CPP Portal में रजिस्ट्रेशन करके देखते रहिये कहाँ – कहाँ किस किस चीज के टेंडर डाले जा रहे हैं
  • अपने शहर के समाचार पत्रों में नज़र रखें क्योंकि टेंडर की निविदा समाचार पत्रों में प्रकाशित किया जाता है|
  • सरकारी कार्यलय में जाकर पता करें
  • सरकारी विभाग में पहले से लगे हुए गाड़ियों के ठेकेदार/ड्राईवर से पता कर सकते हैं|

यदि आपके पास GST का रजिस्ट्रेशन नहीं है तो अपनी गाड़ी सरकारी विभाग में कैसे लगायें?

ऐसे बहुत सारे लोग हैं जिनके पास गाड़ी तो है और वे सरकारी विभाग में गाड़ी लगाने के लिए इच्छुक हैं किन्तु उनके पास GST का रजिस्ट्रेशन है | उनका बड़ा सवाल यही है की वे लोग Sarkari Vibhag me Car kaise lagaye?

ऐसे लोग अपनी गाड़ी सीधे सरकारी विभाग में न लगाकर किसी Contractor के माध्यम से लगा सकते हैं क्योंकि टेंडर होने के बाद Contractor की काफी सारी गाड़ियों की जरुरत होती है| इतनी सारी गाड़ियाँ ठेकेदार या कांट्रेक्टर के पास नही होती है वे आप जैसे लोगें से लेकर ही उन गाड़ियों की supply करते हैं और अपना कमीशन रखकर पैसे आपको दे देते हैं|

और जब आपको टेंडर के बारे में अच्छी जानकारी हो जाये तो आप भी एक फर्म बनाकर अपना GST का रजिस्ट्रेशन ले लीजिये और टेंडर डाल कर सीधे सरकारी विभाग को गाड़ी Supply कर सकते हैं| इस प्रक्रिया में आपको ही GST के returns भी भरने होंगे और भी जो कागजी कार्यवाहियां होंगी उन्हें आपको खुद करना होगा | या आप किसी को इस काम के लिए Hire कर सकते हैं |

Contractor के माध्यम से गाड़ी लगाने पर आपको GST रजिस्ट्रेशन और Returns की झन्झट नही होगी | पैसा भी कम ही मिलेगा क्योंकि कांट्रेक्टर अपना कमीशन कट करके ही आपको पैसे देगा| किन्तु आपको आराम रेहगी |

इस प्रकार से आप भी अपनी गाड़ी डायरेक्ट नही तो indirect रूप में सरकारी विभाग में लगा सकेंगे| मुझे उम्मीद है अब आपको काफी जानकारी हो गयी होगी की sarkari vibhag me car kaise lagaye

किसी कंपनी में कार कैसे लगायें

किसी भी कंपनी में कार / गाड़ी लगाने के लिए आपको उस कंपनी में विजिट करना होगा | और वहां से कंपनी में गाड़ी की जरुरत/ आवश्यकता के बारे में जानकारी लेना होगा | यदि कंपनी में जरुरत होगी तो वे आपको अवश्य बताएँगे और यदि नही है तो उन्हें अपना विजिटिंग कार्ड या मोबाइल नंबर जरुर दे दे और आग्रह करें कि ‘सर जब जरुरत  हो तो मुझे इस नंबर में सुचना दे दें’ |

किसी भी कंपनी में कार लगाने के दो तरीके हैं-

  • आप सीधे कंपनी से यानि मेनेजर से बात करें, सर मेरे पास यह गाड़ी है यदि आपकी कंपनी में जरुरत हो तो मै इसे लगा दूँ|
  • आप उससे बात करें जिसकी गाड़ी कंपनी में अभी लगी हुई हैं | यदि उस कांट्रेक्टर को गाड़ी की जरुरत होगी तो वह आपको बता देगा और यदि जरुरत नही है उस समय तो उसे अपना फ़ोन या मोबाइल नंबर जरुर दे दें| और जरुरत पड़ने पर फ़ोन करने के लिए आग्रह कर लें|

ऐसा आपको कई सारी कंपनियों में जा कर पूंछना है और जानकारी लेना है और अपना मोबाइल नंबर उन्हें जरुर दे दें ताकि भविष्य में जरुरत पड़ने पर वे तुमसे संपर्क कर सकें|

OLA (ओला) में अपनी कार/ गाड़ी कैसे लगायें

ओला में अपनी कार लगाने के लिए आप नीचे दी गयी प्रोसेस को फॉलो करें

  • OLA की वेबसाइट https://partners.olacabs.com/ पर जाएँ
  • यहाँ पर Lease a Car मेनू पर क्लिक करें
  • और अपनी डिटेल जैसे नाम, मोबाइल नंबर और शहर भर कर अपना एप्लीकेशन सबमिट कर दे
  • OLA की टीम आपको 24 घंटे में संपर्क करेगी

अभी तक की जानकारी में  यदि आपके पास कोई प्रश्न है तो नीचे कमेंट करके  जरुर पूंछिये | हम  आपको उचित और सही जानकरी देने की पूरी कोशिश करेंगे| यदि जानकारी अच्छी लगी हो तो दूसरों के साथ भी शेयर करें| हो सकता है उन्हें भी टेंडर मिल जाये| अधिक जगह से टेंडर डालने पर मिलने के चांस भी बढ़ जाते हैं| ‘Sarkari vibhag me Car kaise lagaye’ इसकी जानकारी तो अब आपको हो ही गयी होगी| धन्यवाद

S.R. Verma

जय हिन्द जय भारत

Leave a Comment